शब्द गर ही ना रहे तो देश चुप हो जाएगा

शब्द है आज़ाद जब तक, देश की परवाज़ तब तक,
शब्द गर चुप हो गए तो, देश चुप हो जाएगा।
**

शब्द हैं तो है भगतसिंह, शब्द ही से गांधी है,
शब्द ही गर ना रहे , आज़ाद भी खो जाएगा।
**
होते गर ना शब्द फिर आज़ादी हम लाते कहाँ से,
लाला क्या फिर बोल पाते, लाठी खा रो जाएगा।
**
शब्द ही के दम से भारत, विश्व मे दमदार है,
शब्द के दम से शांति, शब्द युद्ध भी बो जाएगा।
**
शब्द ही जब ना रहेंगे, शब्द वीरों का क्या होगा,
शब्द के ही दम से जो जिंदा, उन लकीरों का क्या होगा।
**
शब्द गर ख़ामोश होते, द्रोपदी ना चीर होता,
भीष्म और दुर्योधन, ना अभिमन्यु सा वीर होता।
**
शब्द सीना ना चीरते, शब्द गर खो जाते जो,
शब्द अपनो को ना खोते, लव चुप ही रह जाते जो।
**
शब्द की महिमा बखाने शब्द भेदी कौन है,
खुद में है तूफ़ां छुपाये, शब्द जब तक मौन है।
**
शब्द है जब तक मैं हूँ, में हूँ जब तक नाद है,
शब्द से ही है बहारें, शब्द से चमन आबाद है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *