मंदसौर:-सराफा व्‍यवसायी की गोली मारकर हत्‍या

मंदसौर। शहर के चौधरी कॉलोनी क्षेत्र में बुधवार रात करीब 9 बजे बदमाशों ने डायमंड ज्वेलर्स के संचालक अनिल सोनी की गोली मारकर हत्या कर दी। सोनी को उनके घर के बाहर सीने और पीठ पर छह गोलियां मारी गई। अस्पताल में डॉक्टरों ने सोनी को मृत घोषित कर दिया। सोनी का लंबे समय से लालाओं से विवाद चल रहा था और हत्याकांड में भी पहला शक उन्हीं पर बताया जा रहा है। वारदात ऐसे समय हुई है जब लोक सभा चुनावों की आचार संहिता के चलते पुलिस जगह-जगह चेक पॉइंट लगाकर जांच कर रही है।

जानकारी के अनुसार अनिल सोनी घर के बाहर टहल रहे थे, तभी वहां पहुंचे अज्ञात बदमाशों ने गोलियां मार दी। इसके बाद सोनी वहीं नीचे गिर गए थे। थोड़ी दूर रहने वाली पार्षद संगीता शर्मा ने पटाखे जैसी आवाज सुनकर पुत्र तरुण शर्मा को कहा कि बाहर कुछ हुआ था। तरुण ने इधर आकर देखा तो सोनी नीचे जमीन पर पड़े थे। उन्हें तत्काल जिला अस्पताल लाया गया। सोनी के पिता ने आरोप लगाया कि इस मौत के जिम्मेदार यहां के पूर्व एसपी मनोज कुमार और लाला पठान हैं। एसपी ने ही सोनी पर पहले हुए हमले के बाद मिली सुरक्षा को वापस ले ली थी। मौके से चार खाली खोके भी मिले हैं।

सुबह ही फेसबुक मैसेंजर पर मिली थी धमकी

सोनी के संस्थान के कर्मचारी ने बताया कि बुधवार सुबह ही अनिल सोनी को फेसबुक मैसेंजर पर शिखा बजाज नाम की फेक आईडी से धमकी भी मिली थी कि संभल जा नहीं तो अच्छा नहीं होगा। इसके बाद दोपहर में कोतवाली में जाकर सोनी नेे आवेदन भी दिया था। पहले भी इस तरह फेक आईडी से सोनी को धमकियां मिलती रही है।

लंबे समय से चल रही थी लालाओं से अनबन

डायमंड ज्वेलर्स के संचालक अनिल सोनी की राजस्थान के सीमावर्ती क्षेत्र के लालाओं से लंबे समय से अनबन चल रही थी। रतलाम के एक व्यापारी से लेन-देन के चलते उसने लालाओं के सहयोग से 1 दिसंबर 2016 को कालाखेत स्थित डायमंड ज्वेलर्स की दुकान पर फायरिंग भी कराई थी। इसके बाद जनवरी 2017 में नीमच मेंे उसके वाहन पर हमला किया था। इसमें अनिल सोनी के पार्टनर अजय सोनी को गोली लगने से कमर के नीचे का हिस्सा काम नहीं कर रहा है।

डायमंड ज्वेलर्स मंदसौर

बाद में नीमच के तत्कालीन एसपी मनोज कुमार सिंह इस मामले में राजस्थान के अखेपुर जाकर एक शूटर शाहरुख को पकड़कर लाए थे। वहीं मंदसौर एसपी ओपी त्रिपाठी ने कय्यूम लाला, आजम लाला सहित अन्य को पकड़ा था। इसके बाद से ही अनिल सोनी लगातार लालाओं और पुलिस के गठजोड़ पर आवाज उठाते रहे थे। अक्टूबर 2018 में तत्कालीन एसपी मनोज कुमार सिंह के प्रतिवेदन पर कलेक्टर ओमप्रकाश श्रीवास्तव ने अनिल सोनी को छह माह के लिए जिला बदर भी कर दिया था। उस समय भी पुलिस ने करवा चौथ के दिन ही घर से उठाकर अनिल सोनी को जिले की सीमा से बाहर छोड़ दिया था।

इनका कहना है

घटना गंभीर है। अभी हमारी पुलिस टीम हत्यारों की तलाश कर रही है। जल्द ही आरोपित हमारी गिरफ्त में होंगे।

-विवेक अग्रवाल, एसपी

शहर में नाकाबंदी : घटना की जानकारी जैसे ही पुलिस कप्‍तान को लगी तो उन्होंने पूरे शहर में नाकाबंदी के आदेश दे दिए हैं। पुलिस ने अब इस पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए जांच शुरू की है।

साभार नई दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *